Tuesday, 21 March 2017

खोल दे पंख मेरे, कहता है परिंदा, अभी और उड़ान बाकी है,
जमीं नहीं है मंजिल मेरी, अभी तो पूरा आसमान बाकी है।

No comments:

Post a Comment